यह है शंत बंगल, शन्त क नबल पुरस्कर त यहँ मलन चहए, पत नहं कहं है पुलस कहं है प्रशसन